Breaking News
Home 25 खबरें 25 स्कूलों में धार्मिक ग्रंथ पढ़ाना अच्छी बात, इसका विरोध ठीक नहीं-अहीर

स्कूलों में धार्मिक ग्रंथ पढ़ाना अच्छी बात, इसका विरोध ठीक नहीं-अहीर

जम्मू कश्मीर प्रशासन की ओर से स्कूलों में उर्दू में गीता और रामायण बांटे जाने को लेकर उठ रहे विरोध पर गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने कहा कि उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं है. हालांकि अहीर ने इतना जरूर कहा कि अगर किसी धर्म का ग्रंथ स्कूलों में पढ़ाया जाता है, तो इससे लोगों का ज्ञान बढ़ेगा और लोगों को इसका सम्मान करना चाहिए.

‘धार्मिक ग्रंथों का विरोध ठीक नहीं’

‘आजतक’ से खास बातचीत में अहीर ने कहा, ‘मैं यह बात कह सकता हूं हमने पवित्र कुरान को मराठी में देखा है, हिंदी में देखा है. इसका अर्थ है कि सभी लोग उसको पढ़ें और समझें. ग्रंथों का विरोध ठीक नहीं है. गीता हो, रामायण हो, पवित्र कुरान हो या गौतम बुद्ध का बौद्ध धर्म ग्रंथ हो, अलग अलग भाषा में होने चाहिए. इसका विरोध मुझे ठीक नहीं लगा.’

‘जम्मू-कश्मीर की हालत काबू में’

मसूद अजहर के सात नागरिकों के मारे जाने पर बदला लेने के बयान पर हंसराज अहीर ने कहा कि ‘उसमें बदला लेने की ताकत हो या न हो लेकिन हममें मुकाबला करने का दम है. हमारी सेना के जवानों में और सुरक्षा बलों में है. जम्मू कश्मीर की पुलिस में है. हम आतंकियों का कड़ाई से जवाब दे रहे हैं और देंगे भी.’

जम्मू कश्मीर में घुसपैठ के मुद्दे पर हंसराज अहीर का कहना है कि ‘वहां के हालात खराब नहीं हैं बल्कि काबू में हैं. मुकाबला किया जा रहा है जगह-जगह घुसपैठ करने वाले आतंकवादियों को ढेर किया जा रहा है. समाप्त किया जा रहा है. जो कश्मीर की बिगड़ी हालत थी, उसको सुधारने में मोदी सरकार जोर लगा रही है. बौखलाया पाकिस्तान हरकतों से बाज नहीं आ रहा है लेकिन हम उसका मजबूती से जवाब दे रहे हैं.’

चीन के समक्ष उठा आतंक का मुद्दा

चीन के साथ आतंकवाद का मुद्दा उठाने पर हंसराज अहीर ने कहा कि ‘हमारे गृह मंत्री ने चीन के समक्ष आतंकवाद का विषय उठाया है. भारत अकेला नहीं है जो आतंकवाद के खिलाफ बोल रहा है. कई देशों ने आतंकवाद के खिलाफ बोला है. चीन सरकार के साथ मुद्दा उठाया है. मोदी सरकार देशहित में काम कर रही है और आगे भी करेगी.

 

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*