Breaking News
Home 25 करियर 25 इस प्रसिद्ध सांख्यिकीविद की याद में जारी होगा 125 रुपये का सिक्का, गूगल ने किया याद!

इस प्रसिद्ध सांख्यिकीविद की याद में जारी होगा 125 रुपये का सिक्का, गूगल ने किया याद!

सर्च इंजन गूगल ने आज डूडल के जरिए जाने माने भारतीय वैज्ञानिक और सांख्यिकीविद् प्रशांत चंद्र महालनोबिस को उनके जन्मदिन पर याद किया है. आज प्रशांत चंद्र का 125वां जन्मदिन है. उनका जन्म कोलकाता में 29 जून 1893 में हुआ था.

आइए जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ बातें..

– प्रशांत को प्रशांत महालनोबिस डिस्‍टेंस का पता लगाने के लिए सबसे ज्‍यादा शोहरत मिली, जो दो डाटा सेट के बीच दूरी की तुलना करता है.

– भारतीय सांख्यिकी संस्‍थान और केंद्रीय सांख्यिकी संस्‍थान की स्‍थापना, ताकि सांख्यिकी से जुड़ी गतिविधियों में तालमेल लाया जा सके.

– आपको बता दें, उनका जन्मदिन ‘सांख्यिकी दिवस’ के रूप में मनाया जाता है.

–  महालनोबिस की तरफ से सांख्य‍िकी के क्षेत्र में किए गए योगदान को देखते हुए सरकार ने 2007 में हर वर्ष 29 जून को सांख्यिकी दिवस के रूप में मानने की घोषणा की थी. महालनोबिस ने भारतीय सांख्यिकी संस्थान की स्थापना 1931 में की थी.

जानिए आंकड़ों के जादूगर के बारे में

– योजना आयोग के सदस्‍य के तौर पर उन्‍होंने दूसरी पंचवर्षीय योजना में औद्योगिकीकरण के लिए भारत की रणनीति तैयार की.

– ग्राफिक आधारित विश्‍लेषण के जरिए उन्‍होंने अलग-अलग तबकों के सामाजिक-आर्थिक हालात की तुलना भी की.

प्रशांत चंद्र महालनोबिस की याद में जारी होगा 125 रुपये का सिक्का

अब जल्द ही 125 रुपये का नया सिक्‍का आने वाला है. उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू एक प्रोग्राम में 29 जून यानी आज ये सिक्‍का जारी करेंगे. 125 रुपये का ये सिक्का देश के मशहूर वैज्ञानिक और सांख्यिकीविद प्रशांत चंद्र महालनोबिस की 125वीं जयंती के मौके पर जारी किया जाएगा. आपको बता दें, 125 रुपये का साथ 5 रुपये का नया सिक्का भी जारी किया जा रहा है.

यहां से हुई पढ़ाई

महालनोबिस की पढ़ाई को लेकर परिवार में चिंता रहती थी. उनकी शुरुआती शिक्षा उनके दादा द्वारा बनवाए ‘ब्रह्म बॉयज स्कूल’ में हुई. वहां से 10वीं की पढ़ाई करने के बाद उन्होंने 1912 में प्रेसीडेंसी कॉलेज से फिजिक्स में ऑनर्स किया और उच्च शिक्षा के लिए लंदन चले गए. महालनोबिस को गणित विषय काफी पसंद था, इसलिए लंदन जाकर उन्होंने कैंब्रिज में दाखिला लिया और फिजिक्स और गणित दोनों विषयों में डिग्री हासिल की. बता दें, महालानोबिस का निधन 78 साल की उम्र में 28 जून 1972 को हो गया था.

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*